राधा स्वामी जी

एक बार की बात है, एक भक्त के दिल में आया की गुरु महाराज जी को रात में देखना चाहिए की क्या वो भी भजन सिमरन करते हैं. वो रात को गुरु महाराज जी के कमरे की खिड़की के पास खड़ा हो गया. गुरु महाराज जी रात रात 9:30 तक भोजन और बाकी काम करके अपने कमरे में आ गये. वो भक्त देखता है की गुरु महाराज जी एक पैर पर खड़े हो कर भजन सिमरन करने लग गये. वो कितनी देर तक देखता रहा और फिर थक कर खिड़की के बाहर ही सो गया.

3 घंटे बाद जब उसकी आंख खुली तो वो देखता है कि गुरु महाराज जी अभी भी एक पैर पर खड़े भजन सिमरन कर रहे हैं, फिर थोड़ी देर बाद गुरु महाराज जी भजन सिमरन से उठ कर थोड़ी देर कमरे में ही इधर उधर घूमें और फिर दोनों पैरो पर खड़े होकर भजन सिमरन करने लगे. वो भक्त देखता रहा और देखते-देखते उसकी आँख लग गई और वो सो गया. जब फिर उसकी आँख खुली तो 4 घंटे बीत चुके थे और अब गुरु महाराज जी बैठ कर भजन सिमरन कर रहे थे.

थोड़ी देर में सुबह हो गई और गुरु महाराज जी उठ कर तैयार हुए और सुबह की सैर पर चले गये. वो भक्त भी गुरु महाराज जी की पीछे ही चल गया और रास्ते में गुरु महाराज जी को रोक कर हाथ जोड़ कर बोलता है कि गुरु महाराज जी मैं सारी रात आपको खिड़की से देख रहा था कि आप रात में कितना भजन सिमरन करते हो.

गुरु महाराज जी हस पड़े और बोले:- बेटा देख लिया तुमने फिर? वो भक्त शर्मिंदा हुआ और बोला की गुरु महाराज जी देख लिया पर मुझे एक बात समझ नहीं आई की आप पहले एक पैर पर खड़े होकर भजन सिमरन करते रहे फिर दोनों पैरो पर और

आखिर में बैठ कर जैसे की भजन सिमरन करने को आप बोलते हो, ऐसा क्यूँ? गुरु महाराज जी बोले बेटा एक पैर पर खड़े होकर मुझे उन सत्संगियो के लिए खुद भजन सिमरन करना पड़ता है जिन्होंने नाम दान लिया है मगर बिलकुल भी भजन सिमरन नहीं करते. दोनों पैरो पर खड़े होकर मैं उन सत्संगियो के लिए भजन सिमरन करता हूँ जो भजन सिमरन में तो बैठते हैं मगर पूरा समय नहीं देते. बेटा जिनको नाम दान मिला है, उनका जवाब सतपुरख को मुझे देना पडता है,

क्यूंकि मैंने उनकी जिम्मेदारी ली है नाम दान देकर. और आखिर में मैं बैठ कर भजन सिमरन करता हूँ, वो में खुद के लिए करता हूँ, क्यूंकि मेरे गुरु ने मुझे नाम दान दिया था और मैं नहीं चाहता की उनको मेरी जवाबदारी देनी पड़े. वो भक्त ये सब सुनकर एक दम सुन्न खड़ा रह गया.

तो मित्रों अगर हम लोगों को नाम दान मिला है तो पूरा समय देना चाहिए, क्यूंकि हमारे कर्मों का लेखा जोखा हमारे गुरु काल से नाम दान देते समय अपने पास ले लेते हैं, और उनको हम पर विश्वास होता है की हम भजन सिमरन को समय देंगे, इसलिए हमे उनके विश्वास पर पूरा उतरना चाहिए, क्यूंकि जवाबदारी हमारे सतगुरु को देनी पड़ती है. इसी लिये हमे भजन सिमरन रोज करना चाहिए ,पूरा पूरा वकत.

राधा स्वामी जी

अगर अच्छा लगे तो अपने ख़ास मित्रों और निकटजनों को यह विचार तत्काल भेजें

मोबाइल में पढ़ने के लिए अप्प डाउनलोड करे: Rssb App

या YouTube par Subscribe kare : Radha Soami Youtube

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here